Web 3.0 kya hai in hindi और Web 3.0 के क्या फायदे हैं?

Web 3.0 kya hai in hindi और Web 3.0 के क्या फायदे हैं?

Web 3.0 kya hai in hindi और Web 3.0 के क्या फायदे हैं?

Web 3.0 kya hai in hindi?दोस्तों आज के समय में Technology इतनी तेंजी के साथ बदल रही है जिसका हम और आप अंदाजा भी नही लगा सकते है.

तो आज मैं आपको इस पोस्ट में एक नही technology और हम ये बोल सकते है की ऐसी Technology जो शायद इन्टरनेट का नक्षा ही बदल सकती है जी हां आज हम इस पोस्ट में बात करने वाले है Web 3.0 के बारे में,

Web 3.0 kya hai in hindi और Web 3.0 के क्या फायदे हैं
Web 3.0 kya hai in hindi और Web 3.0 के क्या फायदे हैं

Web 3.0 Kya hai, Web 1.0 ,Web 2.0 और Web 3.0 में क्या अन्तर है,Web 3.0 की Importance क्या है? सभी के बारे में हम आज इस पोस्ट में बात करने वाले है.

तो अगर आप Web 3.0 के बारे में अभी तक नही जानते है और सही से सब कुछ जानना चाहते है तो ये पोस्ट आपके बहुत ज्यादा काम आने वाली है, तो आपको इस पोस्ट को अंत तक पढना बहुत ही ज्यादा जरूरी है.

तो चलिए अब शुरु करते है-

Web 1.0 Kya hai-

Web 3.0 Meaning in Hindi इसको जानने से पहले आपको Web 1.0 को जानना होगा, तो जब इन्टरनेट की शुरुआत हुई थी तो केवल software developer और Web Developer ही इन्टरनेट से interact कर पाते थे.

वो ही या तो software बनाते थे या फिर वेबसाइट बनाते थे और इन्टरनेट पर काम करते थे,वो एक static type की वेबसाइट को बनाते थे और वहां पर अपना काम करते थे,

How to make money from video editing in Hindi?

Web 1.0 एक use में सिर्फ वेबसाइट को browser करते थे और अगर हमको अगर इन्टरनेट पर कोई जानकरी पढ़ पाते थे, पर किसी भी वेबसाइट या प्लेटफार्म पर यूजर interact नही कर पाता था, बस इसी को बोलते थे Web 1.0.

Web 2.0 Kya hai-

जब भी हम किसी भी चीज का दूसरा वर्शन बनाते है तो पहले वर्शन में कुछ न कुछ कमियां होती है जिनको दूर करना होता है बस Web 1.0 की कमियों को दूर करने और यूजर को इन्टरनेट के साथ और interact करने के लिए अविष्कार हुआ Web 2.0 का.

Web 2.0 का मतलब ही Dynamic और Interactive website था, जहाँ पर यूजर किसी भी वेबसाइट पर जाकर interact कर सकता था, कमेंट कर सकता था, account create कर सकता था, गेम खेल सकता था, और और भी बहुत सारे काम कर सकता था.

जिन लोगो को पता नही है उन लोगो को मैं बता देना चाहता हूँ की Web 2.0 का अविष्कार सन 2000 के करीब डासी डिनुसी ने किया था, और जो आज के समय में हम इन्टरनेट को चला रहे है वो Web 2.0 की वजह से चला रहे है.

Web 2.0 की वजह से सोशल site जैसे फेसबुक, instagram, youtube जैसे प्लेटफार्म का प्रचलन हुआ और इसके द्वारा ब्लॉग्गिंग और ecommerce प्लेटफार्म भी काम कर रहे है,

How to earn money from home for ladies in India | in Hindi

Web 3.0 Kya hai-

Web 3.0 kya hai in hindi दोस्तों जिस तरह से Web 2.0 का अविष्कार Web 1.0 में कुछ कमी के कारण से हुआ था और उन कमियों को Web 2.0 में दूर किया गया था ठीक वैसे ही Web 2.0 में भी कुछ कमियां थी जिनको Web 3.0 में दूर किया जायेगा.

शायद अभी के समय पर Web 3.0 का चलन उतना नही है पर आने वाले समय में ज्यादा से ज्यादा लोग इसका use कर सकते है.

तो Web 3.0 को Decentralize Web भी कहा जाता है Web 3.0 Blockchain Technology पर काम करता है और वही से इसको power मिलता है.

Blockchain Technology में होता क्या है की इसमें कोई भी डाटा किसी एक सर्वर पर नही होता है, जैसे की मैं इसको आपको एक उदहारण से समझाता हूँ

मान तो अगर आप कोई भी वेबसाइट बनाते हो तो आपको एक वेब होस्टिंग की जरुरत होती है और आपकी वेबसाइट का सारा कण्ट्रोल उस होस्तंग सर्वर के पास होता है, तो अगर future में अगर वो सर्वर बंद हो जाता हा या वो होस्टिंग company बंद हो जाती है तो फिर आपकी वेबसाइट और फाइल भी खत्म हो जाएगी.

पर अगर दूसरी तरह अगर आपकी वेबसाइट के सर्वर का अगर कण्ट्रोल एक सर्वर या होस्टिंग company के पास न होकर अगर अलग अलग सर्वर पर होता तो फिर उस company के जाने के बाद भी अपनी वेबसाइट बंद नही होती.

बस यही technology आपको मिलती है Web 3.0 में.

Web 3.0 के Benefits | Web 3.0 के क्या फायदे हैं

अब बात कर लेते है Web 3.0 के फायदों के बारे में

1.Security

Web 3.0 का सबसे बड़ा फायदा ये ही है की इसमें चीजे ज्यादा secure होती है क्योकि इसमें किसी चीज का कण्ट्रोल किसी एक के पास न होकर Decentralize हो जाता है.

अब अगर कोई भी हमारी वेबसाइट को हैक करना चाहता है तो उसको केवल एक सर्वर या एक कंप्यूटर को हैक करना काफी नही होगा क्योकि डाटा अलग अलग सर्वर पर होता है, जिससे सभि सर्वर को हैक कर पाना बहुत ही मुश्किल होता है.

और कभी अगर एक सिस्टम की फाइल कर्रप्ट हो जाती है तो फिर दूसरा सर्वर उसको compaire करकर चेक कर लेगा और अगर वहां पर उसको कोई दिक्कत दिखाई देती है तो वो उसको ठीक कर देगा.

2. Serverless Hosting-

Web 3.0 में की भी डाटा किसी एक सर्वर पर स्टोर नही होता है बल्कि डाटा Decentralize होता है और अलग अलग सर्वर पर डाटा सेव होता है.

तो अगर आपको होस्टिंग की कोई दिक्कत आती भी है तो आपको फिकर करने की कोई जरुरत नही होती है.

3.Data Privacy-

Web 3.0 में जो भी हमारा डाटा होता है वो किसी एक सर्वर पर स्टोर नही होता है बल्कि वो Decentralize होता है और अलग अलग सर्वर पर स्टोर होता है जिससे क्या होता है की अगर कोई हमारा डाटा हैक करना चाहे या डाटा को ढूडना चाहे तो वो आसानी से नही ढूंड सकता है.

2022 में अच्छा पैसा कमाने के लिए 5 Best Skills जिनको हर किसी को सीखना चाहिए

और इस तरह से आपका डाटा और भी ज्यादा सेफ होगा.

Web 3.0 में क्या-क्या बदलाव होंगे?

वैसे तो Web 2.0 के बाद अगर बात करे की Web 3 .0 में आपको क्या नई चीज़े देखने को मिल सकती है , सो Web 3 .0 आने के बाद आपके पास ज्यादा सिक्योरिटी और पावर आ जाएगी क्यों आपको आपके कंटेंट के बदले एक टोकन मिल जायेगा जो की यूनिक टोकन होगा |

यानि की अगर आप अपना कोई भी कंटनेट किसी भी सोशल मीडिया में डालते हु तोह उसका राइट्स आपके पास होगा |

उदाहरण के लिए अगर आज की तारीख में आप अपना कंटेंट फेसबुक या यूट्यूब पर शेयर करते हो तो वो एक तरह से उनका हो जाता है। वो आपके कॉन्टेंट को अपने हिसाब से रख सकते है और हटा सकते हैं।

लेकिन Web 3.0 में ऐसा नहीं होगा। यहां कोई भी पर्सन/कंपनी ये तय नहीं करेगी कि आपका content हटाया जाए या रखा जाए।

Web 3.0 में लोग अपना सारा डेटा खुद कंट्रोल करेंगे। क्योंकि यहां Web 2.0 की तरह डेटा किसी एक कंपनी के पास नहीं होगा। जिस तरह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में क्रिप्टोकरेंसी काम करती है वैसे ही आपका कंटेंट मल्टीप्ल नेटवर्क्स में होगा यानि की एक कंपनी या कोई पर्सन आपका कंटेंट कण्ट्रोल नहीं करेगा ।

Web 3.0 में भी ब्लॉकचेन की तरह ही डेटा किसी एक सेंट्रल सर्वर पर ना हो कर हर यूजर के डिवाइस में होगा। हालांकि ये एन्क्रिप्टेड/सिक्योर होगा, इसलिए कोई ये नहीं जान पाएगा कि किस यूजर का डेटा कहां पर है।

FAQ-Web 3.0 Meaning in Hindi

Q : Web 3.0 को किस नाम से जाना जाता है?
Ans: Web 3.0 को Decentralize वेब नाम से जाना जाता है.

Q : Web 3.0 की शुरुआत कब हुई थी?
Ans:Web 3.0 की शुरुआत 2006 में हुई थी.

Q : Web 3.0 का फायदा क्या है?
Ans:Web 3.0 से हमारा डाटा सुरक्षित और हमारी प्राइवेसी बनी रहेगी.

अंतिम विचार-What is Web 3.0 In Hindi

दोस्तों अगर अपने इस पोस्ट को यहाँ तक है तो आपको Web 3.0 क्या है इस बारे में पूरी जानकरी मिल चुकी होगी , और साथ ही साथ आपको What is Web 3.0 In Hindi और Web 3.0 Meaning in Hindi और Web 3.0 के Benefits के बारे में पूरी जानकारी मिल चुकी होगी.

अगर आपको मेरी ये दी हुई जानकारी पसंद आई है तो आप मेरी इस पोस्ट को अपने दोस्तों और परिवार वालो के साथ शेयर कर सकते हो. आप हमारे वेबसाइट के बेल्ल आइकॉन को जरूर प्रेस करे ता जो आप को हमारी आने वाली पोस्ट्स के साथ जुड़ सके |

आप हमे you-tube पर भी follow कर सकते है |